पीएम मोदी को राजीव गांधी की तरह उड़ाने की थी साज़िश, नक्सलियों की चिट्ठी से हुआ खुलासा

पुणे, महारष्ट्र: भीमा-कोरेगांव हिंसा के मामले में हुई गिरफ्तारी के बाद चौंकाने वाली साज़िश का खुलासा हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हत्या का प्लाट रचा जा रहा था। इसका खुलासा पुणे पुलिस के उस पत्र से हुआ जो पुलिस ने सत्र अदालत को सौंपा। पुणे पुलिस ने आज सत्र अदालत को बताया कि प्रतिबंधित  सीपीआई (माओवादी) से ‘संबंध’ के आरोप में गिरफ्तार पांच व्यक्तियों में से एक के घर में कथित रूप से एक पत्र मिला है। इसमें इस बात का जिक्र है कि माओवादी ‘एक और राजीव गांधी कांड की योजना बना रहे हैं।

वकील उज्ज्वल निकम ने अदालत से कहा कि गिरफ्तार पांच दलित कार्यकर्ताओं में से एक दिल्ली में रोना विलसन के घर पर मिले पत्र में एम -4 राइफल और गोलियां खरीदने के लिये आठ करोड़ रुपये की जरूरत की बात लिखी है। साथ ही उसमें ‘एक और राजीव गांधी कांड’ का जिक्र किया गया है।

इसमें लिखा गया है कि प्रिय कॉमरेड प्रकाश लाल सलाम ‘मोदी के नेतृत्व में हिंदू फासिस्ट का फैलाव काफी तेजी से हो रहा है और इसको दबाने के लिए मोदी को रोकना जरूरी है। बिहार, पश्चिम बंगाल जैसे बड़े राज्यों में हार के बावजूद मोदी ने देश के 15 राज्यों में बीजेपी ने सत्ता हासिल कर ली है। अगर ये इसी रफ्तार से जारी रहा तो पार्टी के लिए काफी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। किसान और सीनियर कॉमरेड्स ने मोदी राज को रोकने के लिए बड़ा कदम उठाने की सोची है। हम एक और राजीव गांधी कांड के बारे में सोच रहे हैं। ये एक आत्मघाती कदम होगा और काफी संभावना है कि हम असफल हो जाएं लेकिन पार्टी को इस बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए। पीएम मोदी के रोड शो को टार्गेट करना एक अच्छी रणनीति हो सकती है’।

ये पत्र माओवादियों के खतरनाक मंसूबों की खुलासा करते हैं। इसके मुताबिक एक और राजीव गांधी कांड यानी पीएम की हत्या की योजना बनाई जा रही थी।

पुलिस ने दिसंबर में यहां आयोजिल ‘एलगार परिषद ’ और इसके बाद जिले में भीमा – कोरेगांव हिंसा के बारे में कल दलित कार्यकर्ता सुधीर धावले , वकील सुरेंद्र गाडलिंग , कार्यकर्ता महेश राउत और शोमा सेन और रोना विलसन को क्रमश : मुंबई , नागपुर और दिल्ली से गिरफ्तार किया था। सभी पांचों आरोपियों को आज सत्र अदालत में पेश किया गया , जिसने उन्हें 14 जून तक पुलिस हिरासत में भेज दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *