देश की महत्वपूर्ण प्रतियोगी परीक्षाओं में बड़े बदलाव की घोषणा

नयी दिल्ली :

 

 

नीट, जेईई मेन्स, यूजीसी नेट, प्रबंधन से जुड़ी सीमैट और फार्मेसी से जुड़ी जीपैट परिक्षाओं का आयोजन अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) कराएगी। अब तक सीबीएसई ये परीक्षायें कराती थी।

 

मेडिकल की नीट और इंजीनियरिंग की जेईई परीक्षा अब साल में दो बार आयोजित होंगी। केंद्र सरकार ने देश की महत्वपूर्ण परीक्षाओं में बड़े बदलाव किए हैं।

 

 

सरकार की ओर से जारी किए गए दिशा निर्देशों के अनुसार केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से करवाई जाने वाली कई परीक्षाएं अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी करवाएगी। इन परीक्षाओं में मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए आवश्यक एंट्रेंस टेस्ट नीट और इंजीनियरिंग कॉलेजों में एडमिशन के लिए करवाई जाने वाली जेईई और सीएमएटी भी शामिल है। पहले इन परीक्षाओं को कराने की जिम्मेदारी सीबीएसई के पास थी। मानव संसाधन विकास मंत्री का कहना है कि इससे परीक्षा पेपरों के लीक होने की घटना को भी रोका जा सकेगा

 

मानव सांसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज संवाददाताओं को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि एनटीए अब यूजीसी नेट की परीक्षा दिसंबर में आयोजित करेगी। सरकार की ओर से परीक्षा के समय में भी बदलाव किया गया है। नीट की परीक्षा हर साल फरवरी और मई में कराई जाएगी। नेट की परीक्षा दिसंबर में और जेईई मेन्स की परीक्षा हर साल जनवरी और अप्रैल में कराई जाएगी। इसके साथ ही ये परीक्षाएं कम्प्यूटर के माध्यम से करवाई जाएगी। नए प्रस्ताव के अनुसार अब इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए विद्यार्थियों को 12वीं बोर्ड के साथ एक साल में दो अवसर मिलेंगे। वे दिसंबर में नीट और जेईई देने के बाद बोर्ड परीक्षा ठीक से दे पाएंगे। इसके साथ ही सरकार देशभर में कम्प्यूटर केन्द्र भी बना रही है जहां पर नीट और जेईई की परीक्षा देने वाले छात्र फ्री में चार महीने प्रैक्टिस भी कर सकेंगे।

 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि छात्र दोनों बार परीक्षा दे सकते हैं । प्रवेश के लिए दोनों में से उच्च प्राप्तांक पर विचार किया जाएगा। मंत्री ने बताया कि इन परीक्षाओं के संदर्भ में पाठ्यक्रम, पश्नों के रूप ओर भाषा के विकल्प के बारे में कोई बदलाव नहीं किया गया है। परीक्षा की फीस में भी कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है।

 

जावड़ेकर ने बताया कि ये परीक्षाएं कम्प्यूटर आधारित होंगी। उन्होंने कहा कि इस बारे में छात्रों को घर पर या किसी केंद्र पर अभ्यास करने की सुविधा दी जायेगी । यह मुफ्त होगा । हर परीक्षा कई तिथियों को आयोजित होगी अर्थात चार-पांच दिनों तक चल सकती हैं ।

 

मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी परीक्षा आयोजन के संदर्भ में एक महत्वपूर्ण सुधार है और इसे इस वर्ष से शुरू करने का निर्णय किया गया है। इस बारे में आज वेबसाइट पर कुछ सूचनाएं डाली जायेंगी और दो-तीन दिनों में पूरी सूचना डाल दी जायेगी ।

 

उल्लेखनीय है कि नीट परीक्षा में करीब 13 लाख छात्र बैठते हैं, जबकि जेईई मेन्स में 12 लाख छात्र तथा यूजीसी नेट में 12 लाख छात्र बैठते हैं । सीमैट में एक लाख छात्र और जीपैट में 40 हजार छात्र हिस्सा लेते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *