विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप : दुनिया जीतने से बस एक कदम दूर पी वी सिंधू

नानजिंग:

 

भारत की स्टार शटलर और ओलिंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधू ने विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में भी अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा। सिंधू ने महिला एकल सेमिफाइनल के संघर्षपूर्ण मुकाबले में जापान की अकेनी यामागुची को सीधे गेम में हराकर लगातार दूसरी बार विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश किया। पिछले साल जापान की नोजोमी ओकुहारा से हारने के कारण उप विजेता रहीं विश्व की तीसरे नंबर की सिंधू ने 55 मिनट तक चले मैच में विश्व में दूसरे नंबर की यामागुची को 21-16, 24-22 से हराया।

 

मैच के बाद सिंधू ने कहा, ‘यह कुल मिलाकर अच्छा मैच था। उम्मीद है कि इस बार मुझे पिछली बार की तुलना में बेहतर परिणाम मिलेगा। मुझे कल के लिए अच्छी तैयारी करनी होगी। इसलिए अभी काम खत्म नहीं हुआ है।’

 

मैच के शुरूआत में सिंधू थोड़ी नर्वस दिखीं। उन्हें लय हासिल करने में समय लगा लेकिन तब तक प्रतिद्ंवदी यामागुची ने 5-0 की बढ़त बना ली थी। जब स्कोर 4-8 था तब सिंधू ने लगातार पांच अंक बनाए और 9-8 से बढ़त हासिल कर ली। हालांकि इंटरवल के समय जापानी खिलाड़ी 11-0 से मामूली बढ़त लिए हुए थी। इसके बाद सिंधू ने बेहतर खेल दिखाया और लगातार आठ अंक बनाकर 18-12 से बढ़त हासिल कर ली। इसके बाद हालांकि दो बार उनका शॉट बाहर गया जिससे यामागुची को वापसी का मौका मिला।

 

भारतीय खिलाड़ी के पास चार ब्रेक प्वाइंट थे और वह इनमें से पहले पर गेम अपने नाम करने में सफल रही। दूसरे गेम में भी शुरू में सिंधू एक समय 2-6 से पीछे थीं लेकिन सिंधू ने अंतर 7-8 कर दिया। यामागुची ने हालांकि क्रॉस कोर्ट स्मैश से अंक बनाया और फिर इंटरवल तक 11-7 से बढ़त बनाए रखी। जापानी खिलाड़ी ने जल्द ही अपनी बढ़त 14-9 कर दी। इसके बाद एक समय यामागुची 16-12 से आगे थीं। सिंधू ने यहां से गजब के जज्बे का परिचय देते हुए लगातार आठ अंक बनाये। सिंधू ने जल्द ही मैच प्वाइंट हासिल किया लेकिन यामागुची ने इसका बचाव करने के बाद गेम पॉइंट भी हासिल किया। इसके बाद दोनों खिलाड़ियों में लंबी रैलियां देखने को मिलीं। सिंधू ने तीसरे मैच पॉइंट पर मैच अपने नाम किया। तब जापानी खिलाड़ी का शॉट बाहर चला गया था।

 

इस मैच से पहले सिंधू का यामागुची के खिलाफ रिकार्ड 6-4 था। इस साल दोनों का दो बार मुकाबला हुआ जिसमें उन्होंने एक एक जीत दर्ज की।

फाइनल में स्पेन की कारोलिन मारिन से होगा मुकाबला

 

विश्व चैंपियनशिप में 2013 और 2014 में कांस्य पदक जीतने वाली 23 वर्षीय सिंधू कल होने वाले फाइनल में स्पेन की कारोलिना मारिन से भिड़ेंगी जो दो बार की स्वर्ण पदक विजेता हैं। मारिन ने रियो ओलिंपिक के फाइनल में सिंधू को हराकर स्वर्ण पदक जीता था। ओवरऑल मारिन का सिंधू के खिलाफ रिकार्ड 6-5 है। सिंधू ने इस साल जून में मलेशिया ओपन में स्पेनिश खिलाड़ी को हराया था। मारिन ने शनिवार को चीन की आठवीं वरीयता प्राप्त ही बिंगजियाओ को 13-21 21-16 21-13 से हराकर तीसरी बार विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *